The World of Books
(Last Updated On: September 13, 2016)

aim

लक्ष्य क्या है, जीवन का सार है
यद्यपी जीवन के दृष्टिकोण अपार है
लक्ष्य जीवन में कुछ कर गुजरने का जुनून है
अपनी महत्वाकांक्षाओं को सच कर दिखाने की दृढ़ता है
लक्ष्य प्राप्ति के लिए तो मनुष्य कुछ भी कर जाता है
दिन रात परिश्रम कर सफलता वह पाता है
लक्ष्य  के बिना तो जीवन मंझधार में अटकी नाव है
जिसका खिवैया असहाय और लाचार है
लक्ष्य ही वह नहर है जो हमारी प्यास बुझाती है
और जीवन में हमको सदैव संतुष्टि दिलाती है


0 thoughts on “लक्ष्य”

Leave a Reply

Related Posts

Poems

वैलेंटाइन्स डे (Valentine's Day)

(Last Updated On: February 14, 2017)When it comes to expressing love.. my methods and beliefs are totally different. I never gift expensive things to my man when it is about showing how much I love Read more…

Poems

मैं यहाँ तू वहाँ (Main Yahan Tu Vahan)

(Last Updated On: February 7, 2017) उन लम्हों का रहता है इंतज़ार जब हम होंगे एक दुसरे के पास सिमट के रह जाएगी दुनिया उन हसीन पलों में भूल जायेंगे हम हकीक़त उन लम्हों में Read more…

Poems

Let Bygones be Bygones

(Last Updated On: January 2, 2017)  As a new year is about to start many have the habit of reflecting on the past year. It often happens that we become sad while reflecting on the Read more…

%d bloggers like this: